viral hindustan ,Lalu Yadav Bail Rejected: लालू को नहीं मिली जमानत, याचिका खारिज; तेजस्‍वी-तेज प्रताप मायूस हुए

Ticker

6/recent/ticker-posts

viral hindustan ,Lalu Yadav Bail Rejected: लालू को नहीं मिली जमानत, याचिका खारिज; तेजस्‍वी-तेज प्रताप मायूस हुए

रांची, राज्‍य ब्‍यूरो। Lalu Yadav Bail, Lalu Yadav News राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव (Lalu Prasad Yadav) अभी जेल से बाहर नहीं आ पाएंगे। उनकी जमानत याचिका (Lalu Yadav Bail) झारखंड हाई कोर्ट (Jharkhand High Court) ने शुक्रवार को सुनवाई के बाद खारिज कर दी है। सुप्रीम कोर्ट के वरिष्‍ठ वकील कपिल सिब्‍बल (Kapil Sibal) ने लालू की बेल पिटीशन पर बहस की। लालू ने चारा घोटाले (Chara Ghotala, Fodder Scam) के दुमका कोषागार मामले में जमानत याचिका दाखिल की थी। वे निचली अदालत से दी गई सात साल की सजा (Lalu Yadav Jail) में आधी सजा काटने का हवाला देते हुए कोर्ट से बेल की मांग कर रहे हैं। हालांकि कोर्ट ने कहा कि उनकी आधी सजा पूरी होने में अभी 2 माह का समय बचा है। ऐसे में उनकी जमानत याचिका खारिज की जा रही है।
लालू को जमानत नहीं मिलने से राजद खेमे में घोर निराशा है। तेजस्‍वी यादव, तेज प्रताप यादव समेत लालू परिवार अदालत के इस तगड़े झटके से सन्‍न है। शुक्रवार को हाई कोर्ट ने लालू की जमानत याचिका खारिज करते हुए कहा कि उनकी आधी सजा पूरी नहीं हुई है, लिहाजा उन्हें ऐसे हालात में बेल नहीं दी जा सकती। लालू प्रसाद ने चारा घोटाले के दुमका कोषागार मामले में उच्‍च न्‍यायालय से जमानत मांगी थी। अदालत ने लालू यादव को दो महीने बाद नई जमानत याचिका दायर करने को कहा है। लालू को चारा घोटाले के तीन मामलों में पहले ही जमानत मिल चुकी है।

राजद अध्‍यक्ष लालू प्रसाद यादव की जमानत याचिका खारिज होने के बाद उनके शुभचिंतकों में मायूसी है। शुक्रवार को अदालत में पहली पाली में सुनवाई के क्रम में लालू की ओर से सजा अवधि पूरी किए जाने पर वकील कपिल सिब्‍बल ने बहस की। कोर्ट में आधी सजा काटने संबंधी दस्‍तावेज जमा कराया गया। दूसरी पाली में जमानत याचिका पर सुनवाई काफी देर तक चली। केंद्रीय जांच एजेंसी, सीबीआइ की ओर से लालू की सजा की आधी अवधि अब भी दो माह सात दिन कम होने संबंधी दस्‍तावेज अदालत को देकर जमानत याचिका खारिज करने को लेकर जोरदार दलीलें दी गईं। जस्टिस अपरेश कुमार सिंह की अदालत में दूसरी पाली में 2:30 बजे से सुनवाई शुरू हुई, इसके बाद दो घंटे तक लंबी बहस दोनों ओर से चली। सीबीआइ ने लालू के पक्ष में दी गई दलीलों पर अपना करारा जवाब दिया। इसके बाद सीबीआइ की ओर से दी गई दलीलों से सहमति जताते हुए कोर्ट ने लालू की जमानत याचिका खारिज कर दी।

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां