उत्तराखंड : सेना ने झोंकी पूरी ताकत , गरज रहे है हेलीकॉप्टर , 600 जवान मोर्चे पे और

Ticker

6/recent/ticker-posts

उत्तराखंड : सेना ने झोंकी पूरी ताकत , गरज रहे है हेलीकॉप्टर , 600 जवान मोर्चे पे और

देहरादून: उत्तराखंड के चमोली में ग्लेशियर टूटने से आई तबाही में अब तक 150 लोगों के लापता होने की खबर है। वहीं बाढ़ से कई इलाके बुरी तरह प्रभावित हैं। ऋषि गंगा पावर प्रोजेक्ट को भी भारी नुकसान हुआ। ऐसे में गृह मंत्रालय ने आपदा में फंसे लोगों की मदद और रेस्क्यू करने के लिए पूरे संसाधन और ताकत झोंक दी है।

उत्तराखंड में ग्लेशियर टूटने से तबाही

गृह मंत्री अमित शाह ने उत्तराखंड के सीएम त्रिवेंद्र रावत से राज्य में आई आपदा को लेकर बात की और कहा कि वे स्थिति पर नजर बनाये हुए हैं। शाह ने राज्य की इस संकट हर सम्भव मदद करने को कहा। इसके साथ ही ITBP के डीजी और NDRF के डीजी से भी बात की है।


गृह मंत्री शाह ने ITBP और NDRF के डीजी से की बात

शाह ने जानकारी देते हुए बताया कि उत्तराखंड में प्राकृतिक आपदा की सूचना के सम्बंध में मुख्यमंत्री समेत DG ITBP व DG NDRF से बात की है। सभी सम्बंधित अधिकारी लोगों की सुरक्षा में युद्धस्तर पर जुच गए हैं। NDRF की टीमें बचाव कार्य के लिए निकल गयी हैं। देवभूमि को हर सम्भव मदद दी जाएगी।

ग्लेशियर टूटने से तबाही: सामने आया जल प्रलय का वीडियो, इतना भयानक था हादसा

ITBP के जवाव तपोवन और रैनी गांव पहुंचे

इसके बाद आईटीबीपी के जवानों ने मौके पर पहुंचकर तपोवन और रैनी गांव के उस इलाके में नुकसान का जायजा लिया जहां ग्लेशियर टूटा है।

वायुसेना और आर्मी के हेलिकॉप्टर रेस्क्यू ऑपरेशन में जुटे

वहीं चमोली में रेस्क्यू ऑपरेशन के लिए वायुसेना और आर्मी के हेलिकॉप्टरों के साथ जवानों को लगाया गया है। ऋषिकेश में राइवाला के नजदीक मिलिट्री स्टेशन के जवान स्थानीय प्रशासन के साथ रेस्क्यू ऑपरेशन में जुटे हुए हैं। आर्मी मुख्यालय से बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों पर नजर रखी जा रही है।

600 जवान बाढ़ प्रभावित इलाकों में मौजूद

बताया जा रहा है कि मौके पर भारतीय सेना के करीब 600 जवानों को बाढ़ प्रभावित इलाके में भेजा रहा है। साथ ही वायुसेना के तीन एमआई-17 हेलिकॉप्टर और एक धुव्र हेलिकॉप्टर को भी बाढ़ प्रभावित इलाकों में भेजा गया है। इतना ही नहीं जरूरत पड़ने पर और विमानों को रेस्क्यू कार्य में लगाया जाएगा।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए - Newstrack App


टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां