चालान काटने से परेसान छात्र ने SSP को किया ट्वीट , मिला ऐसा रिप्लाई पूरे शहर में हुआ फेमस

Ticker

6/recent/ticker-posts

चालान काटने से परेसान छात्र ने SSP को किया ट्वीट , मिला ऐसा रिप्लाई पूरे शहर में हुआ फेमस

इटावा: यूपी के इटावा जिले के SSP ने एक बार फिर साबित कर दिया है कि मानवता अभी भी जिंदा है. इटावा SSP आकाश तोमर लोगों की मदद करने में आगे रहते हैं. इसको लेकर वह पूरे शहर में फेमस हैं और लोगों के पसंदीदा भी. इस बार भी उन्होंने एक छात्र की मदद करने के लिए बड़ा कदम उठाया है.

दरअसल, इटावा में रह रहे एक स्टूडेंट का पुलिस ने भारी चालान काट दिया. इस बात से परेशान छात्र ने एक ट्विटर पर एक पोस्ट लिखा, जिसमें SSP आकाश तोमर को टैग किया. इस ट्वीट में छात्र ने अपनी व्यथा बताते हुए उनसे मदद मांगी.


पुलिस ने काटा छात्र का 5000 का चालान
हरिहरपुरा गांव का निवासी दीपेंद्र यादव इटावा में MA फर्स्ट ईयर का छात्र है.

बीती 10 फरवरी को वह शाम के समय कोचिंग पढ़कर बाइक से वापस आ रहा था. लेकिन उसकी नंबर प्लेट में 4 की जगह केवल 3 नंबर ही लिखे हुए थे, एक नंबर हटा हुआ था. पुलिसकर्मियों ने वाहन चेकिंग के दौरान यह देखा तो अपनी ड्यूटी निभाते हुए नंबर मिसिंग होने का चालान काट दिया. चालान भी कम नहीं, पूरे 5000 रुपये का. इस बात से छात्र परेशान हो गया.

छात्र ने ट्वीट कर साझा की परेशानी
उसी रात दीपेंद्र ने अपनी परेशानी एसएसपी को ट्वीट कर बताई. ट्वीट में दीपेंद्र ने बताया कि उसके घर की आर्थिक स्थिति ठीक नहीं है. हालांकि, वह अपनी गलती स्वीकार करता है लेकिन वह इतने पैसे देने में असमर्थ है. उसने कहा कि अब वह यह गलती दोबारा नहीं करेगा. बस इस बार उसकी सहायता कर दी जाए. छात्र ने यह भी कहा कि उसने एसएसपी आकाश तोमर को बहुत लोगों की मदद करते सुना और देखा है. इसपर एसएसपी ने दीपेंद्र को जांच का आश्वासन दिया और TSI को जांच सौंपी गई.


SSP ने ट्वीट कर छात्र को दी खुशखबरी
जांच में दीपेंद्र की बात सही पाई गई, जिसके बाद एसएसपी ने खुद दीपेंद्र को ट्वीट कर बताया कि उसका चालान कैंसल कर दिया गया है. इसके साथ ही, उन्होंने दीपेंद्र के अच्छे भविष्य की कामना करते हुए दृढ़ता से पढ़ाई करने की सलाह दी. छात्र दीपेंद्र ने जानकारी दी कि उसके पिता की 2 बीघा जमीन है, जिसपर वह खेती करते हैं. उसके 2 छोटे भाई-बहन BSc कर रहे हैं. परिवार के पास इतने पैसे नहीं हैं कि चालान भर सकें. इसलिए उसने एसएसपी को चालान रद्द करने के लिए शुक्रिया अदा किया.

पहले भी की है छात्रों की मदद
गौरतलब है कि SSP आकाश तोमर 2 महीने पहले सिविल सर्विस की तैयारी कर रहे कैंडिडेट्स को गूगल ड्राइव के जरिए नोट्स देने के बाद से चर्चा में आए थे. अब एक बार फिर दीपेंद्र यादव का चालान रद्द करने पर वह चर्चा का विषय बन गए हैं.


टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां