राम मंदिर के लिए सबसे बड़ा दान किये 11 करोड़, आइए जानते है इनके बाड़े में expr:class='data:blog.pageType'>

Ticker

6/recent/ticker-posts

राम मंदिर के लिए सबसे बड़ा दान किये 11 करोड़, आइए जानते है इनके बाड़े में

नई दिल्ली। अयोध्या में बनने वाले भव्य राम मंदिर के लिए 'निधि समर्पण अभियान' की शुरुआत हो गई है। इस अभियान की शुरुआत राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से हुई। राष्ट्रपति कोविंद ने राम मंदिर निर्माण के लिए 5 लाख 100 रुपये का चंदा दिया। और राम मंदिर निर्माण के लिए गुजरात के हीरा कारोबारी गोविंद भाई ढोलकिया ने 11 करोड़ रुपये का चंदा दिया है। उन्होंने ये धनराशी अयोध्या में भव्य राम मंदिर निर्माण के लिए 14 जनवरी से शुरू हुए धन संचय अभियान के तहत दी। राम मंदिर के निर्माण के लिए श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट, विश्व हिंदू परिषद (वीएचपी) और आरएसएस देशभर में धन एकत्रित करने का अभियान चला रहे हैं।

यह अभियान करीब डेढ़ महीने तक चलेगा। इसमें हर कोई अपनी इच्छाशक्ति के अनुसार चंदा दे सकता है।

आम आदमी से लेकर उद्योगपति कर रहे हैं दान

इसके तहत 27 फरवरी तक देशभर में करीब 13 करोड़ परिवारों तक पहुंचने का लक्ष्य रखा गया है। इन परिवारों से चंदा इकट्ठा करने की योजना है। लोगों से जो भी रुपये मलेंगे वो राम मंदिर निर्माण के लिए इस्तेमाल होंगे। इस अभियान में आम आदमी से लेकर उद्योगपति तक अपना योगदान दे रहे हैं। इसी कड़ी में गुजरात के व्यापारी गोविंदभाई ढोलकिया ने 11 करोड़ रुपये का चंदा दिया है। गोविंदभाई धोलकिया, सूरत में हीरा के व्यापारी हैं और रामकृष्ण डायमंड के मालिक हैं। वे सालों से आरएसएस के साथ जुड़े हुए हैं। 1992 में हुई राम मंदिर पहल में वो भी शामिल थे।

इच्छाशक्ति के अनुसार दे रहे हैं चंदा

उनके अलावा सूरत में केमिकल इन्डस्ट्रीज के लिए मशहूर महेश कबुतरवाला ने 5 करोड़ और लवजी बादशाह ने 1 करोड़ रुपए का दान दिया। वहीं, उत्तर प्रदेश के रायबरेली निवासी सुरेंद्र सिंह ने भी एक करोड़ रुपये का चंदा दिया है। इसके अलावा कई व्यापारियों ने 5 से लेकर 21 लाख रुपए का समर्पण दान दिया है। बीजेपी के गोरधन झडफिया और बीजेपी के कोषाध्यक्ष सुरेन्द्र पटेल ने भी राम मंदिर निर्माण के लिए 5-5 लाख रुपए का दान दिया है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ