Ticker

6/recent/ticker-posts

अगर आप बच्चे को दे रहे है मोबाइल ऑनलाइन क्लासेस के लिए तो हो जाय सावधान

फिल्लौर(भाखड़ी): अगर आप भी ऑनलाइन पढ़ाई के लिए बच्चों को देते है मोबाइल फोन तो यह खबर आपके लिए अहम हो सकती है। दरअसल, लुधियाना पुलिस ने ऐसे गिरोह का पर्दाफाश किया है जो लड़कियों को प्रेम जाल में फंसाकर उनसे नकदी व गहने हड़पते थे। प्राप्त सूचना अनुसार पंजाब पुलिस एकैडमी में तैनात सब-इंस्पैक्टर ने बताया कि उसकी पत्नी भी पुलिस विभाग में ए.एस.आई. के पद पर तैनात है, उसके 2 बच्चे बड़ी लड़की 14 वर्ष की जो 9वीं कक्षा में पढ़ती है और छोटा बेटा 9 साल का है। लॉकडाऊन के चलते स्कूल बंद हो गए ऑनलाइन पढ़ाई के लिए उन्होंने अपनी बेटी को मोबाइल फोन ले दिया। उन्हें क्या मालूम था कि जो मोबाइल फोन उन्होंने अपनी बेटी के अच्छे भविष्य के लिए उसे लेकर दिया वह फोन उनकी जिंदगी में ऐसा भूचाल ला देगा जो कुछ पति-पत्नी ने बीते वर्षों में मेहनत कर कमाया, वह सब कुछ दिनों में ही लूट जाएगा।

अधिकारी ने बताया कि एक उनकी बेटी के फोन पर किसी अनजान नंबर से एस.एम.एस.आया। उसके बाद उनकी बेटी को दोबारा फिर एस.एम.एस. आए। एस.एम.एस. करने वाला लड़का गुरप्रीत जो स्थानीय शहर का रहने वाला है, ने ऐसा जाल बिछाया कि उसकी नाबालिग बेटी उसके जाल में फंसती चली गई। अपने जाल में फंसाने के बाद गुरप्रीत ने उसे मिलने के लिए बुला लिया और उसके बाद उनके घर में चोरियां का सिलसिला शुरू हो गया। अधिकारी की नाबालिग बेटी को प्रेम जाल में फंसा प्रेमी लड़की के घर में पड़े लाखों रुपए के सोने के गहने और नकदी उसी से चोरी करवाकर अपने पास मंगवाता रहा। शिकायत मिलते ही पुलिस ने प्रमी लड़के और उसकी मां के विरुद्ध केस दर्ज किया। पुलिस अधिकारी ने कहा कि उसकी बेटी ही नहीं बल्कि और भी ऐसी कई लड़कियां हैं जिन्हें यह गिरोह अपने प्रेम जाल में फंसा कर उनको अपने ही घरों में चोरी करने को मजबूर करता है।

2000 से शुरू हुई चोरी लाखों के गहनों तक पहुंची 
अधिकारी ने बताया कि आरोपी लड़के गुरप्रीत ने उनकी बेटी को पूरी तरह से अपने जाल में फंसाने के चक्कर में अपनी मां के साथ भी मिलवा दिया और उसके बाद उसकी बेटी को कोई मजबूरी बता उससे 2 हजार रुपए मंगवा लिए। उसके बाद वह आए दिन उससे पैसे मंगवाता रहता और उनकी बेटी उसे लाकर देती रही। एक दिन जब उसकी बेटी ने रुपए देने से मना कर दिया कि वह घर से और रुपए नहीं ला सकती तो गुरप्रीत और उसकी मां ने बेटी को धमकाते हुए कहा कि अगर वह घर से पैसे लेकर नहीं आएगी तो वह उसके छोटे भाई को मरवा देंगे । अगर घर में रुपए नहीं पड़े तो वह सोने के गहने उठा कर उन्हें ला दे। डरी हुई बेटी घर में पड़ी 2 सोने की चेन जो एक और डेढ़ तोले की थी और एक अढ़ाई तोले का सोने का हार घर से चूरा कर उन्हें दे दिया। उसके बाद उन्होंने फिर उसकी बेटी को डरा कर घर में पड़े 10 हजार रुपए और मंगवा लिए। 

समय रहते पता न चलता तो लुट सकती थी बेटी की इज्जत भी
अधिकारी ने बताया कि घर से आए दिन सामान चोरी होने के बाद वे पति-पत्नी में भी झगड़ा होने लग पड़ा तो बेटी से रहा नहीं गया और उसने अपनी मां को रोते हुए सब कुछ बता दिया कि किस तरह गुरप्रीत ने उससे अपनी माता से मिलकर प्रेम जाल में फंसा सब कुछ लूट लिया। अब वह उसे अपने साथ संबंध बनाने के लिए मजबूर कर रहा है। पूरी घटना सुन कर पुलिस दंपत्ति के पैरों तले जमीन खिसक गई और उन्होंने तुरंत स्थानीय पुलिस थाने पहुंच आरोपी लड़के और उसकी माता के विरुद्ध केस दर्ज करवा दिया है। 

आरोपी की गिरफ्तारी के बाद खुल सकते हैं और भी कई राज 
पुलिस अधिकारी ने बताया कि उन्होंने तो किसी तरह से हिम्मत कर पुलिस के पास पहुंच मुकद्दमा दर्ज करवा दिया। उसके बाद पुलिस अधिकारी अपने स्तर पर उस फास्ट फूड की दुकान पर पहुंचा जहां उसकी बेटी को अक्सर लड़का मिलने के लिए बुलाता था। जब दुकान में लगे सी.सी.टी.वी. कैमरे की जांच की तो वह हैरान रह गया। उक्त लड़का गुरप्रीत उनकी बेटी के अलावा और भी 2 लड़कियों से अलग-अलग मिल रहा था। वे लड़कियों को भी ब्लेकमेल कर उनसे भी पैसे ऐंठता होगा। पुलिस अधिकारी छानबीन करता हुआ उस सुनार की दुकान पर पहुंच गया जहां आरोपी लड़के ने उनके घर से चुराए हुए सोनी के आभूषण बेचे थे। 


आरोपी को शीघ्र गिरफ्तार कर पुलिस गहराई से करेगी जांचः थाना प्रभारी 
थाना प्रभारी रणजीत सिंह ने बताया कि जैसे ही उन्हें शिकायत मिली उन्होंने तुरंत आरोपी गुरप्रीत और उसकी माता गुरबख्श कौर के विरुद्ध केस दर्ज कर दिया। केस दर्ज होने का पता चलते ही गुरप्रीत अदालत से जमानत करवा कर आ गया जब उसने पूछताछ के दौरान पुलिस का सहयोग नहीं किया तो पुलिस ने अदालत में पेश होकर उसकी जमानत रद्द करवा दी। उसके बाद से वह फरार है। उन्हें पता है कि वह पुलिस से बचने के लिए ऊपरी अदालत में पेश हुआ है, जल्द ही उसे गिरफ्तार कर आगे पूछताछ की जाएगी।

Post a Comment

0 Comments