Ticker

6/recent/ticker-posts

viral news ; IPL 2020 का टाइटल स्पॉन्सर बना Dream-11, खरीदे 222 करोड़ में राइट्स , धोनी गेम चेंजर नाम से जाने जाते हैं


चीनी मोबाइल फोन निर्माता वीवो के हटने के बाद बीसीसीआई को नए टाइटल स्पॉन्सर की तलाश थी। इसमें कई बड़ी कंपनियां दौड़ में थीं। वीवो ने 2018 में 5 साल के लिए डील साइन की थी।

हर साल वह बोर्ड को 440 करोड़ रुपये का भुगतान कर रही थी। लेकिन इस बार देश में चीन के खिलाफ बने माहौल के चलते चीनी मोबाइल निर्माता कंपनी ने हटने का फैसला किया। इस दौड़ में बायजूज, रिलायंस जियो, टाटा संस और अनअकैडमी जैसी कंपनियां शामिल थी। लेकिन ड्रीम 11 ने सभी को पछाड़ते हुए टाइटल स्पॉन्सरशिप हासिल की। खबरों के अनुसार इस बिड में सबसे आगे ड्रीम इलेवन रही जिसने करीब 250 करोड़ रुपये की बोली लगाई। वहीं अनएकेडमी ने 210 करोड़ और टाटा ने 180 करोड़ रुपये की बोली लगाई थी। एजुकेशन ऐप कंपनी बायजूज ने 125 करोड़ रुपये की बोली लगा दी है ।

Dream 11 Wins IPL 2020 Title Sponsorship

  • IPL 2020 के लिए टाइटल स्पॉन्सर का ऐलान
  • Dream 11 को मिली IPL 13 की स्पॉन्सरशिप

IPL 2020 के लिए चाइनीज कंपनी VIVO की जगह नए टाइटल स्पॉन्सर का ऐलान हो गया है. VIVO को सीजन 13 से हटाए जाने के बाद Dream 11 को इस साल IPL की टाइटल स्पॉन्सरशिप मिली है. IPL के चेयरमैन बृजेश पटेल ने PTI से कहा कि Dream 11 ने 222 करोड़ रुपये में IPL 2020 सीजन के लिए स्पॉन्सरशिप राइट्स खरीदे हैं.

बता दें कि यह बोली VIVO के सालाना 440 करोड़ रुपये से 218 करोड़ रुपये कम है. ड्रीम 11 ने चीनी कंपनी VIVO की जगह लगभग साढ़े चार महीने के लिए टाइटल प्रायोजन का अधिकार हासिल किया. टाइटल प्रायोजन अधिकार की होड़ में टाटा समूह भी शामिल था. आईपीएल का आयोजन 19 सितंबर से 10 नवंबर तक इस साल संयुक्त अरब अमीरात (UAE) में किया जाएगा.


ड्रीम 11 पहले से ही पिछले कुछ वर्षों से आईपीएल के प्रायोजन से जुड़ा है. यह पता चला कि टाटा समूह ने अंतिम बोली नहीं लगाई, जबकि दो शिक्षा प्रौद्योगिकी कंपनियां बायजूस (201 करोड़) और अनएकेडमी (170 करोड़) क्रमशः दूसरे और तीसरे स्थान पर रहे.

बता दें कि इससे पहले भारत और चीन के बीच बढ़ते विवाद के कारण BCCI ने इस सीजन के लिए वीवो की छुट्टी कर दी थी. वीवो ने 2018 से 2022 तक पांच साल के लिए 2190 करोड़ रुपये में (प्रत्येक वर्ष 440 करोड़ रुपए) आईपीएल टाइटल प्रायोजन अधिकार हासिल किए थे. अगले साल वीवो मुख्य प्रायोजक के रूप में लौट सकता है.



Post a Comment

0 Comments